Dard Bhari Shayari – बिछड़ के हम से

वो बिछड़ के हमसे ये दूरियां कर गई
न जाने क्यों ये मोहब्बत अधूरी कर गई
अब हमे तन्हाईयां चुभती है तो क्या हुआ
कम से कम उसकी सारी तमन्नाएं तो पूरी हो गई

Woh Bichhad Ke Humse Ye Dooriyan Kar Gayi
Na jane Kyon Ye Mohabbat Adhuri Kar Gayi
Ab Humme Tanhaiyaan Chumti Hai Toh Kya Hua
Kam Se Kam Uski Saari Tamannayein Toh Puri Ho Gayi
dard-bhari-shayari
सोचा था तड़पाएंगे हम उन्हे
किसी और का नाम लेके जलाएंगे उन्हे
फिर सोचा मैंने उन्हें तड़पाके दर्द मुझको ही होगा
तो फिर भला किस तरह सताए हम उन्हे

Socha tha tadpaayenge hum unhe
Kisi aur ka naam leke jalayenge unhe
Phir socha maine unhe tadpaake dard mujhko hi hoga
To phir bhala kis tarah sataye hum unhe
dard-bhari-shayari
दिन हुआ है, तो रात भी होगी
मत हो उदास, उससे कभी बात भी होगी
वो प्यार है ही इतना प्यारा
ज़िदगी रही तो मुलाकात भी होगी

Din hua hai, toh raat bhi hogi
Mat ho udaas, usse kabhi baat bhi hogi
Woh pyaar hai hi itna pyara
Zindegi rahi toh mulakat bhi hogi
dard-bhari-shayari

Leave a Comment